Daily Current Affairs 2020 भारत और अमरीका ने रक्षा तकनीक के हस्तांतरण के लिए औद्योगिक सुरक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किये | Daily Current Affairs 2020

भारत और अमरीका ने रक्षा तकनीक के हस्तांतरण के लिए औद्योगिक सुरक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किये

Posted by
Subscribe for News Feed

भारत और अमरीका द्विपक्षीय सहयोग तथा रक्षा व्यापार और मजबूत करने पर सहमत हुए हैं। दोनों देश जापान जैसे समान विचार वाले देशों के साथ हिंद प्रशांत क्षेत्र को शांतिमय बनाने और आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ने के लिए तालमेल बढ़ाने पर भी सहमत हुए हैं। वाशिंगटन में दूसरी टू-पल्स-टू मंत्रिस्तरीय वार्ता में दोनों देशों ने आपसी संबंधों को 2020 में नये स्तर तक पहुंचाने की रूपरेखा तय की। अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर की मेजबानी में हुई इस वार्ता में भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भाग लिया। दोनों पक्षों ने निर्वाचित प्रतिनिधियों के बीच संपर्क मजबूत करने, औद्योगिक सुरक्षा समझोते और अंतरिक्ष, विज्ञान, जल तथा लोगों के बीच संबंध बढ़ाने के अनेक समझौतों पर हस्ताक्षर किए। वार्ता की समाप्ति के बाद अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियों ने संवाददाताओं को बताया कि दोनों देशों के बीच अंतरिक्ष, रक्षा और औद्योगिक सहयोग के नये समझौतों पर हस्ताक्षर हुए।
 
उन्होंने बताया कि अमरीका हिंद प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा के भारत के दृष्टिकोण का सम्मान करता है। इस संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस. जयशंकर और अमरीकी रक्षा मंत्री एस्पर भी शामिल थे।
 
अफगानिस्तान के मुद्दे पर अमरीकी विदेश मंत्री ने बताया कि दोनों देश अफगान लोगों के  सुरक्षित, समृद्ध और शांतिपूर्ण भविष्य के लिए मिलकर काम कर रहे हैं।
 
टू-पल्स-टू बैठक को भारत और अमरीका के संबंधों की रफ्तार बनाए रखने में सार्थक और सफल बताते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों देशों के बीच औद्योगिक सुरक्षा समझौते पर हस्ताक्षर होने से भारत और अमरीका के निजी संगठनों के बीच वर्गीकृत प्रौद्योगिकी और सूचना का सुचारू हस्तांतरण सुगम हो जाएगा।
 
पाकिस्तान पर श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तानी नेताओं का बड़बोलापन और आक्रामक बयान शांति के लिए अनुकूल नहीं हैं।
 
दोनों देशों ने हिंद प्रशांत क्षेत्र में भागीदार देशों की संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना क्षमता बढ़ाने पर भी सहमति व्यक्त की। साथ ही अफ्रीकी देशों के साथ सफलतापूर्वक चल रहे त्रिपक्षीय कार्यक्रम के विस्तार पर भी सहमति हुई।
 
विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि भारत आपदा नियंत्रण की प्रभावी प्रणाली शुरू करने में अमरीका का संस्थापक सदस्य के रूप में स्वागत करता है। उन्होंने कहा कि इससे प्राकृतिक आपदाओं की तैयारी को और कारगर बनाया जा सकेगा। श्री जयशंकर ने बताया कि वार्ता के दौरान वित्तीय कार्रवाई कार्य बल में मिलकर काम करने पर भी चर्चा हुई।
 
एच1बी वीजा धारकों की मजबूत पैरवी करते हुए श्री जयशंकर ने कहा कि भारत और अमरीका के द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने में दोनों देशों के लोगों का न्‍यायपूर्ण और भेदभावरहित आवागमन ने महत्वपूर्ण योगदान किया है।

Source: News On air

Subscribe for News Feed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*