पोषण 2.0 (Poshan 2.0) क्या है? | Daily Current Affairs 2021

पोषण 2.0 (Poshan 2.0) क्या है?

Posted by
Subscribe for News Feed
पोषण 2.0

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 1 सितंबर, 2021 से शुरू होने वाले पूरे महीने को पोषण माह के रूप में मनाने का फैसला किया है।

मुख्य बिंदु 

  • यह आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में मनाया जाएगा।
  • समग्र पोषण में सुधार और त्वरित और गहन पहुंच सुनिश्चित करने के लिए पूरे महीने को केंद्रित और समेकित दृष्टिकोण के लिए साप्ताहिक विषयों में विभाजित किया गया है।
  • महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ मिलकर इस महीने के लिए कई गतिविधियों की योजना बनाई है।

उत्सव के तहत साप्ताहिक थीम

  • 1 से 7 सितंबर तक की जाने वाली गतिविधियों के लिए साप्ताहिक विषय है – पौधरोपण गतिविधि “पोषण वाटिका” के रूप में।
  • सितंबर के दूसरे सप्ताह की थीम है :  पोषण के लिए योग और आयुष।
  • तीसरे सप्ताह के लिए थीम “उच्च बोझ वाले जिलों में आंगनवाड़ी लाभार्थियों को ‘क्षेत्रीय पोषण किट’ का वितरण” है।
  • जबकि सितंबर के अंतिम सप्ताह की थीम “गंभीर अति कुपोषित बच्चों की पहचान और पौष्टिक भोजन का वितरण” रखी गई है।

पोषण 2.0

सरकार ने पोषण अभियान के उद्देश्यों पर ध्यान केंद्रित करते हुए 2021-2022 के बजट में पोषण 2.0 कार्यक्रम की घोषणा की। यह एक एकीकृत पोषण सहायता कार्यक्रम के रूप में है जो पोषण सामग्री, वितरण, आउटरीच और परिणामों को मजबूत करने का प्रयास करता है।

पोषण अभियान (POSHAN Abhiyaan)

पोषण अभियान गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली मां, बच्चों और किशोरियों के लिए पोषण संबंधी परिणामों में सुधार के लिए भारत सरकार का प्रमुख कार्यक्रम है। यह मिशन 8 मार्च, 2018 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लांच किया गया था। पोषण (POSHAN) का अर्थ “Prime Minister’s Overarching Scheme for Holistic Nutrition” अभियान है। इस मिशन की घोषणा 2021-2022 के बजट में की गई थी।

पोषण माह (POSHAN Maah)

पोषण माह सितंबर के महीने में मनाया जाता है ताकि समुदाय को संगठित किया जा सके और लोगों की भागीदारी को बढ़ाया जा सके। वर्ष 2021 में भारत आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, इस महीने को समग्र पोषण में सुधार के लिए एक केंद्रित और समेकित दृष्टिकोण के साथ साप्ताहिक विषयों में विभाजित किया गया है। यह मोटे तौर पर ग्राम पंचायतों, आंगनवाड़ी, स्कूल परिसर आदि में पोषण वाटिका के लिए वृक्षारोपण अभियान पर ध्यान केंद्रित करेगा।

Source: GK Today

Subscribe for News Feed